इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

रविवार, 19 जनवरी 2014

रिपोर्ट चंपू जी वाया मफ़लर ट्रैंड एंड चादर .....

नेट से मिले चंपू जी की लेटेस्ट पोज़ वाली फ़ोटो





अरे हां बहुत दिन हुए चंपू उर्फ़ हमारे तेज़म तेज़ पत्रकार बोले तो रपोटर रपट पेश नहीं किए , लीजीए उनका ताज़ा ताज़ा अपडेट , पिछले एक आध दिन का है

चंपू जी खडे हैं अक्षरधाम पुलवा के पास ( अब इनका कपार खराब है तो किया क्या जाए हमेशा शहादत वाली जगह पे नियुक्त किए जाते हैं , वर्ना मिस बिजली को देखिए , सलमान को कवर करती हैं हमेशा ) , तो चंपू जी बताएंगे दिल्ली में पडी सर्दी और कोहरे की मार

आजकल तो मौसम खबर में गाना भी चलता है , सो चलने के साथ ही चंपू जी प्रकट

" जैसा कि आप देख रहे हैं कि दिल्ली में ठंड और कोहरे की चादर फ़ैल गई ,( और मुझे छोड कर सब साले चादर पे फ़ैले होंगे ) और इस चादर ने पूरी दिल्ली को लपेट लिया है ,
इस कोहरे और ठंड के कारण लोगों को बहुत परेशानी हो रही , खासकर उन लोगों को जो सडकों पे चलते हैं .............."

स्टूडियो से दीमक चौपटिया पूछते हैं , तो क्या फ़ुटपाथ वाले मज़े में हैं यां वे टोपी पे टार्च बांध के लेग ड्राइव कर रहे हैं ....

" फ़ुटपाथ पर अगला बाइट में कवर करिएगा , अभी आगे सुनिए ...
तो जैसा कि आप देख रहे हैं कि कोहरे की ये चादर और मंतरी जी का  मफ़लर , दोनों ही हिट चल रहे हैं आजकल , समझिए कि ट्रेंड हो गए हैं आज के , हां ट्रेंड से दर्शकों को बताते चलें कि बेडा गर्क हो इस ट्रेंड का सुना कल किसी की जिंदगी ही इस ट्रेंड ने सस्पेंड कर डाली जी "

चौपटिया जी : "अरे वो छोडिए , और चादर पर लौट(लोट) जाइए .........

चंपू जी आखिर में आखिर में आस्तीन चढाते हुए , देखिए इत्ता मत लोटने को कहिए हमें , अभी के अभी यहीं रिजाइन मार देंगे और , मफ़लर बांध के मोर्चा संभाल लेंगे फ़िर लेते फ़िरिएगा हमसे बाइट , इंटरव्यू देंगे उनको जो हर हफ़्ते अदालत बिठाते हैं , इत्ती सरकार भी नहीं बिठाती जित्ते उन्होंने बिठा लिए अब तक "

भाड में गया चादर , और भाड में गई सडक , मैं तो खैर खडा ही भाड में हूं , रिपोट को यहीं लपेट रहा हूं , चाय बनवा के रखिएगा वर्ना कैमरा पर्सन भलुआ कह रहा है , खैंची वीडियो को खराब करना उसके बाएं हाथ का खेल है ..खतम किए रिपोर्ट ..रे काट रे भलुआ

:) :) :) :) :) :)

6 टिप्‍पणियां:

मैंने तो जो कहना था कह दिया...और अब बारी आपकी है..जो भी लगे..बिलकुल स्पष्ट कहिये ..मैं आपको भी पढ़ना चाहता हूँ......और अपने लिखे को जानने के लिए आपकी प्रतिक्रियाओं से बेहतर और क्या हो सकता है भला

साथ चलने वाले

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...